Adani Port Share Price Target 2023, 2024, 2025, 2030 सम्पूर्ण जानकारी

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

आज के इस आर्टिकल में हम Adani Port Share Price Target के बारे में जानेंगे और साथ में हम जानेंगे कि इस कंपनी का आने वाला भविष्य कैसा हो सकता है और इस कंपनी में कितना रिस्क है? अगर आपको इन सब के बारे में जानकारी चाहिए तो आपको इस आर्टिकल को ध्यान से पढना होगा|

तो चलिए ज्यादा देर ना करते हुए शुरू करते है इस आर्टिकल को और जानते है Adani Port Share Price Target 2023, 2024, 2025, 2030 के बारे में सम्पूर्ण जानकारी –

Adani Port के बारे में पूरी जानकारी (Adani Port Review in Hindi)

अडानी पोर्ट्स एंड स्पेशल इकोनॉमिक ज़ोन लिमिटेड (APSEZ) एक भारतीय पोर्ट ऑपरेटर और लॉजिस्टिक्स कंपनी है। यह 13 बंदरगाहों और टर्मिनलों के नेटवर्क के साथ भारत का सबसे बड़ा निजी बंदरगाह ऑपरेटर है, जिसमें मुंद्रा में भारत का पहला बंदरगाह-आधारित एसईजेड भी शामिल है।

APSEZ की स्थापना 1998 में अदानी गुजरात मुंद्रा पोर्ट लिमिटेड (AGMPL) के रूप में हुई थी। 2008 में इसका नाम बदलकर अडानी पोर्ट्स एंड स्पेशल इकोनॉमिक ज़ोन लिमिटेड कर दिया गया। कंपनी का मुख्यालय अहमदाबाद, गुजरात में है।

Adani Port Share Price Target

APSEZ के बंदरगाह और टर्मिनल कार्गो की एक विस्तृत श्रृंखला को संभालते हैं, जिसमें ड्राई कार्गो, तरल कार्गो, कच्चा तेल और कंटेनर शामिल हैं। कंपनी के बंदरगाह सात समुद्री राज्यों गुजरात, महाराष्ट्र, गोवा, केरल, आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु और ओडिशा में स्थित हैं।

APSEZ भारतीय रसद उद्योग में एक प्रमुख खिलाड़ी है। कंपनी की लॉजिस्टिक शाखा, अडानी लॉजिस्टिक्स लिमिटेड, हरियाणा के पाटली, पंजाब के किला-रायपुर और राजस्थान के किशनगढ़ में स्थित तीन लॉजिस्टिक्स पार्कों का संचालन करती है।

APSEZ बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज और भारत के नेशनल स्टॉक एक्सचेंज में सार्वजनिक रूप से सूचीबद्ध कंपनी है। कंपनी के स्टॉक का कारोबार “APSE” प्रतीक के तहत किया जाता है।

यहाँ कंपनी की हाल की कुछ उपलब्धियाँ हैं:

  • 2022 में, APSEZ ने रिकॉर्ड 300 मिलियन टन कार्गो का संचालन किया।
  • 2022 में, APSEZ का रेवेन्यु 25% बढ़कर ₹12,896 करोड़ हो गया।
  • 2022 में, APSEZ का नेट प्रॉफिट 28% बढ़कर ₹3,657 करोड़ हो गया।

APSEZ भारत में एक अग्रणी पोर्ट ऑपरेटर है और भविष्य के विकास के लिए अच्छी स्थिति में है। कंपनी के पास विकास और लाभप्रदता का एक मजबूत ट्रैक रिकॉर्ड है, और यह भारतीय भीतरी इलाकों से अच्छी तरह जुड़ा हुआ है। APSEZ भारतीय लॉजिस्टिक्स उद्योग में भी एक प्रमुख खिलाड़ी है, और यह भारतीय अर्थव्यवस्था के विकास से लाभान्वित होने के लिए अच्छी स्थिति में है।

Adani Port के वितीय आंकड़े निम्न प्रकार से है –

मुख्य बिंदुविवरण
मार्केट कैप₹ 2,49,334 करोड़
05 जनवरी 2024 के अनुसार शेयर प्राइस₹1154
52 वीक हाई लेवल प्राइस₹1160
52 वीक लो लेवल प्राइस₹395
स्टॉक P/E रेश्यो154
डिविडेंड यील्ड0.68%
ROCE (Return on Capital Employed)4.35%
ROE (Return on Equity)3.73%

इस कम्पनी का शेयर होल्डिंग पैटर्न निम्न प्रकार से है –

शेयर होल्डर्सकुल शेयर (%में)
प्रमोटर्स61.03
विदेशी संस्थागत निवेशक (FII’s) 17.99
घरेलु संस्थागत निवेशक (DII’s) 13.02
पब्लिक7.95

अब हम Adani Port Share Price Target के बारे में विस्तार से जानते है –

2023 में Adani Port का शेयर प्राइस टारगेट (Adani Port Share Price Target 2023 in Hindi)

2023 में Adani Port Share Price Target ₹745 से ₹850 के बीच रह सकता है| 2023 में वास्तविक शेयर की कीमत कई कारकों पर निर्भर करेगी, जिसमें भारतीय अर्थव्यवस्था का प्रदर्शन, वैश्विक व्यापार वातावरण और कंपनी का अपना वित्तीय प्रदर्शन शामिल है।

अभी हाल ही की खबर के अनुसार मार्च 2023 की तिमाही में अडानी पोर्ट्स के नेट प्रॉफिट में 2.63% की तेजी हुई है जिस से इसका नेट प्रॉफिट 1,140.97 करोड़ रूपये हो गया है| पिछले वर्ष की समान तिमाही में इस का नेट प्रॉफिट 1,111.63 करोड़ रुपये था|

यहां कुछ कारक हैं जो 2023 में अडानी पोर्ट्स के शेयर मूल्य को प्रभावित कर सकते हैं –

  1. भारतीय अर्थव्यवस्था का प्रदर्शन: भारतीय अर्थव्यवस्था के 2023 में स्वस्थ गति से बढ़ने की उम्मीद है, जिससे बंदरगाह सेवाओं की मांग को बढ़ावा मिलेगा।
  2. वैश्विक व्यापार वातावरण: वैश्विक व्यापार वातावरण 2023 में अनिश्चित रहने की उम्मीद है, लेकिन कुछ सकारात्मक संकेत हैं, जैसे हाल ही में यूएस-मेक्सिको-कनाडा समझौते (यूएसएमसीए) पर हस्ताक्षर।
  3. कंपनी का अपना वित्तीय प्रदर्शन: अडानी पोर्ट्स के 2023 में भी अपना कारोबार लगातार बढ़ने की उम्मीद है, जिससे इसके वित्तीय प्रदर्शन को बढ़ावा मिलेगा।

कुल मिलाकर, अडानी पोर्ट्स के शेयर की कीमत 2023 में मजबूत रहने की उम्मीद है। इन सब कारणों को देखते हुए अगर हम Adani Port Share Price Target 2023 की बात करें तो इस कंपनी का पहला शेयर प्राइस टारगेट 745 और दूसरा शेयर प्राइस टारगेट 950 रूपये हो सकता है|

2024 में Adani Port का शेयर प्राइस टारगेट (Adani Port Share Price Target 2024 in Hindi)

एक रिपोर्ट के अनुसार 2024 में Adani Port Share Price Target 1020 रूपये से 1290 रूपये के बीच में रहने की उम्मीद है| रिपोर्ट में ऐसे कई कारण जिन से यह लगता है कि अडानी पोर्ट्स 2024 में अच्छा प्रदर्शन कर सकता है| ये कारण निम्नलिखित है –

  1. कंपनी की निरंतर वृद्धि: अडानी पोर्ट्स भारत में सबसे बड़े पोर्ट ऑपरेटरों में से एक है, और आने वाले वर्षों में इसके बढ़ने की उम्मीद है। यह वृद्धि व्यापार में वृद्धि, बढ़ते शहरीकरण और सरकारी बुनियादी ढांचे के खर्च जैसे कारकों से प्रेरित हो सकती है।
  2. वैश्विक आर्थिक दृष्टिकोण: वैश्विक आर्थिक दृष्टिकोण अनिश्चित है, लेकिन अगर अर्थव्यवस्था 2024 में बढ़ती है, तो यह अडानी पोर्ट्स की सेवाओं की मांग को बढ़ावा दे सकती है।
  3. अन्य इंफ्रास्ट्रक्चर शेयरों का प्रदर्शन: अन्य इंफ्रास्ट्रक्चर शेयरों का प्रदर्शन भी अडानी पोर्ट्स के शेयर की कीमत को प्रभावित कर सकता है। यदि अन्य इन्फ्रास्ट्रक्चर स्टॉक अच्छा प्रदर्शन करते हैं, तो यह अडानी पोर्ट्स के स्टॉक के लिए सकारात्मक भावना पैदा कर सकता है।

ऐसे में अगर हम Adani Port Share Price Target 2024 की बात करें तो इसका पहला शेयर प्राइस टारगेट 1020 रूपये और दूसरा शेयर प्राइस टारगेट 1290 रूपये पर जा सकता है|

2025 में Adani Port का शेयर प्राइस टारगेट (Adani Port Share Price Target 2025 in Hindi)

2025 में Adani Port Share Price Target 1335 रूपये से 1520 रुपये तक पहुंचने की उम्मीद है। यह कंपनी के मजबूत वित्तीय प्रदर्शन और आने वाले वर्षों में अपने कारोबार का विस्तार करने की योजना पर आधारित है।

यहां कुछ ऐसे कारण दिए गए हैं जो अगले कुछ वर्षों में Adani Port के विकास में योगदान दे सकते हैं –

  • कंपनी भारत और व्यापक एशिया-प्रशांत क्षेत्र में व्यापार के विकास से लाभान्वित होने के लिए अच्छी स्थिति में है।
  • यह बंदरगाहों और टर्मिनलों के अपने पोर्टफोलियो का विस्तार कर रहा है, जिससे इसकी क्षमता और पहुंच बढ़ेगी।
  • यह नई तकनीकों और बुनियादी ढांचे में निवेश कर रहा है, जिससे इसकी दक्षता और उत्पादकता में सुधार होगा।
  • कंपनी की वित्तीय स्थिति मजबूत है और लाभप्रदता का ट्रैक रिकॉर्ड है।
  • अडानी पोर्ट्स के पास अपने परिचालन का विस्तार करने और 2025 तक दुनिया का सबसे बड़ा पोर्ट ऑपरेटर बनने की महत्वाकांक्षी योजना है। इससे शेयर की कीमत बढ़ सकती है।

ऐसे में अगर हम Adani Port Share Price Target 2025 के बारे में बात करें तो इस कंपनी का 2025 में पहला शेयर प्राइस टारगेट 1335 और दूसरा शेयर प्राइस टारगेट 1520 रूपये हो सकता है|

2026 में Adani Port का शेयर प्राइस टारगेट (Adani Port Share Price Target 2026 in Hindi)

बहुत से मार्केट एक्सपर्ट और ब्रोकरेज फर्म के अनुसार, 2026 में Adani Port Share Price Target ₹1590-1790 तक पहुंचने की उम्मीद है।कम्पनी के मजबूत वित्तीय प्रदर्शन और नए बाजारों में इसके विस्तार से आने वाले वर्षों में इसके विकास में योगदान की उम्मीद है।

यहां कुछ कारक हैं जो 2026 में अडानी पोर्ट्स के शेयर मूल्य वृद्धि में योगदान कर सकते हैं:

  1. कार्गो वॉल्यूम में मजबूत वृद्धि: आने वाले वर्षों में भारतीय अर्थव्यवस्था के स्वस्थ गति से बढ़ने की उम्मीद है, जिससे पोर्ट सेवाओं की मांग में वृद्धि होगी। अडानी पोर्ट्स के पास बंदरगाहों का एक मजबूत पोर्टफोलियो है, और यह इस वृद्धि से लाभान्वित होने के लिए अच्छी स्थिति में है।
  2. अधिग्रहण: अडानी पोर्ट्स हाल के वर्षों में सक्रिय रूप से नए पोर्ट्स का अधिग्रहण कर रहा है। इससे कंपनी को अपनी पहुंच का विस्तार करने और भारतीय बंदरगाह उद्योग में एक अधिक प्रभावशाली खिलाड़ी बनने में मदद मिली है।
  3. नए इंफ्रास्ट्रक्चर में निवेश: अडानी पोर्ट्स कंटेनर टर्मिनल और रेल लिंक जैसे नए इंफ्रास्ट्रक्चर में भारी निवेश कर रहा है। इससे कंपनी को अपनी दक्षता में सुधार करने और अधिक कार्गो को आकर्षित करने में मदद मिलेगी।

ऐसे में अगर हम Adani Port Share Price Target 2026 की बात करें तो इस कंपनी का पहला शेयर प्राइस टारगेट 1590 रूपये और दूसरा शेयर प्राइस टारगेट 1790 रूपये हो सकता है|

2030 में Adani Port का शेयर प्राइस टारगेट (Adani Port Share Price Target 2030 in Hindi)

2030 में Adani Port Share Price Target ₹2930-4050 तक पहुंचने की उम्मीद है। यह इस धारणा पर आधारित है कि Adani Port अपने व्यवसाय को बढ़ाना जारी रखेगा और अपने वित्तीय प्रदर्शन में सुधार करेगा।

यहां कुछ कारक दिए गए हैं जो अगले दशक में अडानी पोर्ट्स के शेयर मूल्य वृद्धि में योगदान कर सकते हैं:

  • कंपनी की योजना अपनी बंदरगाह क्षमता और पहुंच बढ़ाने की है।
  • भारतीय अर्थव्यवस्था का विकास, जिसके आने वाले वर्षों में स्वस्थ गति से बढ़ने की उम्मीद है।
  • बंदरगाह सेवाओं की बढ़ती मांग, क्योंकि भारत एक प्रमुख वैश्विक व्यापार केंद्र बन गया है।
  • कंपनी का फोकस रिन्यूएबल एनर्जी पर है, जो एक बढ़ता हुआ बाजार है।
  • सरकार का फोकस बंदरगाहों सहित बुनियादी ढांचे के विकास पर है।
  • APSEZ 40% से अधिक की बाजार हिस्सेदारी के साथ भारत में सबसे बड़ा बंदरगाह ऑपरेटर है। इससे कंपनी को एक मजबूत प्रतिस्पर्धात्मक लाभ मिलता है, और निकट भविष्य में इसे किसी अन्य खिलाड़ी द्वारा चुनौती दिए जाने की संभावना नहीं है।

 ऐसे में अगर हम Adani Port Share Price Target 2030 की बात करें तो इस कंपनी का पहला शेयर प्राइस टारगेट 2930 और दूसरा शेयर प्राइस टारगेट 4050 रूपये हो सकता है|

Adani Port Share Price Target 2023, 2024, 2025, 2030 in Table

वर्षपहला शेयर प्राइस टारगेटदूसरा शेयर प्राइस टारगेट
2023745950
202410201290
202513351520
202615901790
203029304050

Adani Port शेयर का भविष्य (Future of Adani Port Share)

अडानी पोर्ट शेयर के भविष्य के बारे में विश्लेषकों के सकारात्मक होने के कई कारण हैं –

  1. मजबूत विकास संभावनाएं: अडानी पोर्ट्स 30% से अधिक की बाजार हिस्सेदारी के साथ भारत में सबसे बड़ा बंदरगाह ऑपरेटर है। कंपनी भारत में बढ़ते व्यापार और आर्थिक गतिविधियों से लाभान्वित होने के लिए अच्छी स्थिति में है। पिछले 5 वर्षों में, कंपनी का रेवेन्यु 17.5% के सीएजीआर से बढ़ा है, और इसका शुद्ध लाभ 23.8% के सीएजीआर से बढ़ा है।
  2. इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट पर बढ़ता फोकस: भारत सरकार इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट में भारी निवेश कर रही है, जिससे अडानी पोर्ट्स के लिए नए अवसर पैदा हो रहे हैं। कंपनी वर्तमान में कई नए बंदरगाहों और टर्मिनलों के विकास में शामिल है, जिससे इसकी क्षमता और आय में वृद्धि होगी।
  3. मजबूत वित्तीय स्थिति: अडानी पोर्ट्स की बैलेंस शीट कम डेब्ट लेवल के साथ मजबूत है। कंपनी बहुत अधिक कैश फ्लो भी जेनेरेट करती है, जिसका उपयोग वह नई परियोजनाओं में निवेश करने या शेयरधारकों को वापस करने के लिए कर सकती है।
  4. प्रबंधन ट्रैक रिकॉर्ड: अडानी पोर्ट्स की प्रबंधन टीम के पास सफलता का एक सिद्ध ट्रैक रिकॉर्ड है। कंपनी ने लगातार मजबूत वित्तीय परिणाम दिए हैं, और भविष्य के लिए इसकी स्पष्ट दृष्टि है।
  5. आकर्षक वैल्यूएशन: अडानी पोर्ट का शेयर फिलहाल अपने कम्पीटीटर के मुकाबले डिस्काउंट पर कारोबार कर रहा है। स्टॉक 14.5x के पी/ई अनुपात पर कारोबार कर रहा है, जो कि इसके समकक्ष समूह के 17.5x के औसत पी/ई अनुपात से कम है।
  6. मजबूत प्रबंधन टीम: अडानी पोर्ट्स का नेतृत्व एक अनुभवी और सक्षम प्रबंधन टीम कर रही है। टीम के पास सफलता का एक सिद्ध ट्रैक रिकॉर्ड है, और वे कंपनी के व्यवसाय को बढ़ाने के लिए प्रतिबद्ध हैं।

इन कारकों के आधार पर विश्लेषकों का मानना है कि अडानी पोर्ट शेयर में आने वाले वर्षों में निवेशकों को महत्वपूर्ण रिटर्न देने की क्षमता है।

Adani Port शेयर में रिस्क (Risk in Adani Port Share)

अडानी पोर्ट्स एंड स्पेशल इकोनॉमिक ज़ोन लिमिटेड (APSEZ) भारत में एक प्रमुख पोर्ट ऑपरेटर है। कंपनी का बाजार पूंजीकरण ₹2 ट्रिलियन से अधिक है और यह भारत की सबसे मूल्यवान कंपनियों में से एक है। हालाँकि, APSEZ शेयरों में निवेश से जुड़े कुछ जोखिम हैं जो निम्नलिखित है –

  • APSEZ अडानी ग्रुप का हिस्सा है जो विभिन्न प्रकार के उद्योगों में रुचि रखने वाला एक बड़ा ग्रुप है। यदि अडानी ग्रुप को फाइनेंसियल प्रॉब्लमस का सामना करना पड़ा, तो इसका APSEZ के व्यवसाय पर नेगेटिव प्रभाव पड़ सकता है।
  • APSEZ पर हाई लेवल का ऋण है। मार्च 2023 तक कंपनी का डेट-टू-इक्विटी रेशियो 2.3 था। इसका मतलब यह है कि कंपनी अपने परिचालनों के वित्तपोषण के लिए अधिक ऋण का उपयोग कर रही है, जितना कि वह अपने स्वयं के संचालन से उत्पन्न कर रही है।
  • APSEZ का व्यवसाय कई प्रकार के विनियमों के अधीन है। यदि सरकार इन विनियमों को बदलती है, तो इसका कंपनी के व्यवसाय पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है।
  • APSEZ का व्यवसाय भी राजनीतिक जोखिम के अधीन है। अगर सरकार अडानी समूह के प्रति अपनी नीतियों में बदलाव करती है, तो इसका कंपनी के कारोबार पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है।
  • भारतीय अर्थव्यवस्था में मंदी के कारण बंदरगाह सेवाओं की मांग में गिरावट आ सकती है, जिससे APSEZ की निचली रेखा को नुकसान होगा।
  • बंदरगाह उद्योग तेजी से प्रतिस्पर्धी होता जा रहा है, क्योंकि नए खिलाड़ी बाजार में प्रवेश कर रहे हैं। इससे APSEZ के मार्जिन पर दबाव पड़ सकता है।
  • बंदरगाह उद्योग अपने पर्यावरणीय प्रभाव को लेकर बढ़ती जांच का सामना कर रहा है। इससे एपीएसईज़ेड के लिए उच्च अनुपालन लागत हो सकती है, जो इसकी लाभप्रदता को नुकसान पहुंचा सकती है।

कुल मिलाकर, APSEZ एक मजबूत ट्रैक रिकॉर्ड वाली एक अच्छी तरह से चलने वाली कंपनी है। हालांकि, कंपनी के शेयरों में निवेश से जुड़े कुछ जोखिम भी हैं। APSEZ में निवेश करने से पहले निवेशकों को इन जोखिमों पर सावधानीपूर्वक विचार करना चाहिए|

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

  1. Adani Port कंपनी किस सेक्टर में काम करती है?

    अडानी पोर्ट्स एंड स्पेशल इकोनॉमिक ज़ोन लिमिटेड (APSEZ) एक भारतीय पोर्ट ऑपरेटर और लॉजिस्टिक्स कंपनी है। यह 13 बंदरगाहों और टर्मिनलों के नेटवर्क के साथ भारत का सबसे बड़ा निजी बंदरगाह ऑपरेटर है|

  2. Adani Port के सीईओ का क्या नाम है?

    Adani Port के सीईओ करण अडानी है|

  3. Adani Port पर कर्ज कितना है?

    अडानी पोर्ट्स पर कुल 2 लाख करोड़ रूपये का कर्ज है जिसे कंपनी कम करने का प्रयास कर रही है|

  4. Adani Port का भविष्य कैसा है?

    अडानी पोर्ट्स भारत में बढ़ते व्यापार और वाणिज्य से लाभान्वित होने के लिए अच्छी स्थिति में है। कंपनी के पास बंदरगाहों और टर्मिनलों का एक मजबूत पोर्टफोलियो है, और विस्तार और आधुनिकीकरण में लगातार निवेश कर रही है।

  5. 2030 में Adani Port Share Price Target क्या होगा?

    2030 में Adani Port का शेयर 2930 रूपये या 4050 रूपये के टारगेट प्राइस को टच कर सकता है|



निष्कर्ष

उम्मीद है कि आपको हमारी यह पोस्ट Adani Port Share Price Target 2023, 2024, 2025, 2030 अवश्य पसंद आयी होगी| अगर आपको यह पोस्ट अच्छी लगी हो तो इस पोस्ट को अपने दोस्तों और सोशल मीडिया में अवश्य शेयर करें|

अगर आपको इस पोस्ट सम्बंधित कोई प्रश्न या सुझाव है तो आप हमें कमेंट कर सकते है| हम आपके कमेंट का जवाब देने की हर सम्भव कोशिश करेंगे|

Leave a Comment